लोकसभा अध्यक्ष सहित राजस्थान के कई मंत्री करेगें कार्यक्रम में शिरकत

कोटा (मातृभूमि न्यूज़)। जैन समुदाय के सर्वाधिक प्राचीन गच्छ खरतरगच्छ के स्थापना के 1000 वर्ष को भव्यातिभव्य रूप से बनाने के लिए परम पूज्य खरतरगच्छाचार्य श्री जिनपीयूषसागर सूरीश्वरजी म.सा. के पावन मार्गदर्शन में अखिल भारतीय स्तर पर खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव समिति का गठन किया गया, जिसकी बैठक कोटा नगर में आचार्य श्रीजी की पावन निश्रा एवं समिति के राष्ट्रीय संयोजक ललितकुमार नाहटा की अध्यक्षता में दानबाड़ी दादावाड़ी में आयोजित की गई। महोत्सव समिति के महामंत्री सुपारसचंद गोलछा ने बताया कि बैठक में 9 अक्टूबर को कोटा नगर में आयोजित होने वाले सहस्त्राब्दी महोत्सव का शुभारंभ व वर्ष 2023 में 25 से 27 दिसम्बर तक आयोजित होने वाले समापन समारोह की रूपरेखा पर चर्चा व विचार विमर्श किया गया। वर्ष 2022-23 में आयोजित होने वाली विभिन्न प्रतियोगिताऐं, धार्मिक अनुष्ठानों की जानकारी दी गई। गोलछा ने बताया कि इस सहस्त्राब्दी समारोह को भव्यतम स्वरूप देने के लिए पूरे भारत व विदेशों में रह रहे खरतरगच्छ के अनुयायिओं को सदस्यता अभियान के माध्यम से जोड़ा जाएगा। खरतरगच्छ गौरव ग्रंथ का प्रकाशन, सर्किल, सड़क का नामकरण, खरतर स्तम्भ आदि का निर्माण करवाया जाएगा। सहस्त्राब्दी गौरव वर्ष को चिरस्थायी बनाने के लिए शाश्वत तीर्थाधिराज शत्रुंजय तीर्थ पर 55000 स्क्वायर फीट भूमि क्रय की जिसके संकुल नाम खरतरवसही दिया जायेगा इसके लिए ऋषभ-जिनेश्वर पेढ़ी का गठन किया गया है।

ये करेंगे शिरकत- खरतरगच्छ सहस्त्राब्दी महोत्सव का शुभारंभ 9 अक्टूबर को कोटा के यूआईटी आॅडिटोरियम में किया जाएगा। इस कार्यक्रम में लोकसभाध्यक्ष ओम बिड़ला, राजस्थान सरकार स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल, खनिज एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया, मध्यप्रदेश सरकार के विज्ञान एवं प्राद्यौगिकी मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा, राजस्थान राज्य गोसेवा आयोग अध्यक्ष मेवाराम जैन सहित देशभर की अनेक राजनैतिक एवं प्रशासनिक हस्तियां इस समारोह में शिरकत करेगी।

शत्रुंजय तीर्थ पर होने वाले विभिन्न कार्यक्रम- वर्ष 2023 में शत्रुंजय तीर्थ पर परम पूज्य खरतरगच्छाचार्य श्री जिनपीयूषसागर सूरीश्वरजी म.सा. आदि शताधिक साधु-साध्वीवृंद का चातुर्मास होगा। इसी के अन्तर्गत 1000 आराधकों का भव्य उपधान तप एवं 1000 आराधकों की नव्वाणु यात्रा व 1500 आराधकों की पर्युषण पर्व की आराधना करने की व्यवस्था की जा रही है। सहस्त्राब्दी महोत्सव का मुख्य समापन समारोह 25 से 27 दिसम्बर 2023 में तीर्थाधिराज शत्रुंजय महातीर्थ पर आयोजित होगा। 25 दिसम्बर को वीर माता-पिता, स्वद्रव्य से जिनालय निर्माण करवाने वाले, नव्वाणु यात्रा, उपधान तप करवाने वाले, छ:री पालित संघ इत्यादि निकलवाने महानुभावों, राजनैतिक, धार्मिक व शैक्षणिक क्षेत्र में विशेष कार्य करने वालों का सम्मान समारोह, 26 दिसम्बर को हजारों श्रद्धालुओं के साथ शत्रुंजय गिरीराज की पहाड़ यात्रा व खरतरवसही टूंक के प्रांगण में शक्रस्तव महाभिषेक अनुष्ठान, 27 दिसम्बर को मुख्य समारोह रहेगा। 20 दिसम्बर से विशाल प्रदर्शनी का आयोजन किया जायेगा जिसमें खरतरगच्छ का इतिहास आदि जानकारियां प्रदर्शित की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: